threesapartyy

    Your #1 source for amateur threesome and group videos on tumblr. Follow and reblog your favorites from @threesapartyy

    harddick21blog

    Threesome fun

    इस लेख में किसी कुँवारी या अनचुदी लड़की के साथ पहली बार सम्पूर्ण चुदाई की विधि बताई गई है। इसे हिन्दी में कौमार्य-भंग, योनिछेदन, सील तोड़ना व अंग्रेज़ी में Deflowering कहते हैं। यह किसी भीलड़की के लिए उसके जीवन की एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण घटना होती है जिसे वह ज़िंदगी भर नहीं भूल सकती। यह एक ऐसा अवसर होता है जिसकी वह तब से कल्पना कर रही होती है जब से उसके बदन में यौन-कामुकता का जन्म होता है और वह अपने स्त्रीत्व का अनुभव करने लगतीहै। अकसर लड़कियाँ अपनी शादीशुदा या अनुभवी सहेलियों से इस बारे में चर्चाकरती हैं… और यह भी देखा गया है कि ज़्यादातर लड़कियाँ अपने अनुभव बढ़ा-चढ़ाकर ही बयान करती हैं जिससे उनके मर्द पर आंच ना आए। अपनी सहेलियों की मधुर कहानियाँ सुन कर लड़कियों के मन में लुभावने सपनों का जन्म होना स्वाभाविक है। अब यह पुरुषों पर निर्भर है कि वे अपनी प्रेयसी या पत्नी के भोले और बरसों से संजोये हुए सपनों को कितना साकार कर पाते हैं या उन्हें कुचल देते हैं। किसी लड़की का कौमार्य भंग करना पुरुष के लिए एक बहुत ही ज़िम्मेदारी का काम होता है। उसे इस मौक़े को उतनी ही तवज्जोह देनी चाहिए जितनी किसी पूजा को दे जाती है। उसे लड़की के लिए यह मौक़ा हमेशा के लिए यादगार बनाना चाहिए। उसे इस दिशा में हर वह प्रयत्न करना चाहिए जिससे लड़की अपना सबसे मूल्यवान उपहार उस पुरुष को देते हुए खुश हो। पुरुष के लिए यह इतना कठिन कामनहीं है क्योंकि एक कुँवारी लड़की की अपेक्षाएं ज्यादा नहीं होतीं। वह यौन के सुखों से अब तक अनभिज्ञ होती है और उसके मन में आकांक्षा, व्यग्रता, चिंता और डर जैसे कई विचार घूम रहे होते हैं। पुरुष का कर्तव्य बनता है कि वह उसकी भावनाओं की कद्र करते हुए बड़े प्यार से उसको धीरे धीरे इस नई डगरपर ऐसे ले जाए कि वह उसके साथ बार-बार उस डगर पर चलना चाहे। सुहागरात की तैयारी मर्दों और लड़कियों दोनों के लिए सबसे ज़रूरी तैयारी है अपनी शारीरिक स्वच्छता या सफाई। यौन सम्भोग एक ऐसा मिलन है जिसमें हमारा संपर्क एक दूसरे के पूरे अंग से होता है। तो लाज़मी है कि हमारा पूरा शरीर एकदम साफ़ हो। गुप्तांगों की सफाईतो ज़रूरी है ही, साथ ही साथ हमारे बाकी अंग, खास तौर से मुँह, जीभ और बगलें साफ़होना बहुत आवश्यक हैं। बेहतर होगा अगर दोनों जने बिस्तर पर जाने से पहले नहा लें। लड़कियों को चाहिए कि अपनी योनि, गुदा, नाभि और स्तनों को अच्छे से धो लें और लड़कों कोअपने लिंग को अच्छे से साफ़ कर लेना चाहिए। अगर लिंग खता हुआ नहीं है (uncircumcised) तो उसके सुपाड़े की परत को जांच लेना चाहिए। कई बार वहाँ गंदगी (smegma) छिपी होती है जो दिखती नहीं है। शरीर से कोई दुर्गन्ध नहीं आनी चाहिए। मेरी सलाह है कि शरीर पर कोई खुशबू (इत्र, सेंट, डियो इत्यादि) लगाने की ज़रूरत नहीं है। सिर्फ साफ़-सुथरा बदन ही काफी है जिससेहमारे बदन की प्राकृतिक गंध (Pheromones) नष्ट ना हो जाए जो यौनाकर्षण में एक अहम भूमिका निभाती है। हाँ, लड़कों को अपनी उँगलियों के नाखून छोटे कर लेने चाहिए और यकीन करना चाहिए कि वे नुकीले नहीं हैं। नाखून काटने के बाद उन्हें फ़ाइल कर लेना चाहिए वरना अनजाने में लड़की के गुप्तांगों को ज़ख़्मी कर सकते हैं। इसके अलावा यौन संसर्ग के लिए आवश्यक है कि एक शीतल कमरा हो जिसमें एक आरामदेह बड़ा बिस्तर हो। कमरे के साथ बाथरूम लगा हुआ हो जिसमें ठण्डे और गर्म पानी का बंदोबस्त हो। गोपनीयता और एकांत के लिए गहरे परदे और मंद रोशनी बेहतर रहेगी। बिस्तर पर तीन-चार तकिये और एक-दो तौलिए होने चाहिए। कुछ लोगों की राय में वातावरण को रूमानी बनाने के लिए सुगन्धित मोमबत्तियाँ और हल्का संगीत होना चाहिए। मैं इसे ज़रूरी नहीं समझता। अगरहो सके तो ठीक है पर ज़रूरी नहीं है। मेरी राय में जब लड़का-लड़की यौन के आवेश में आ जाते हैं तो उनकी सब इन्द्रियाँ सिर्फ सम्भोग पर केंद्रित हो जाती हैं और वातावरण की सुगंध या संगीत का अहसास उन्हें कतई नहीं होता। किसी भी सम्भोग के पहले पेट हल्का होना चाहिए। तो, दोनों को हल्का भोजन करना चाहिए और कच्चा प्याज-लहसुन से परहेज़ करना चाहिए जिससे मुँह से दुर्गन्ध ना आये। वैसे भी खाना खाने के बाद मुँह अच्छे से साफ़ कर लेना चाहिए। अमूमन लोग सोचते हैं कि संभोग का मज़ा बढ़ाने के लिए मदिरा-पान कर लेना चाहिए। पर यह ना तो ज़रूरी है और ना ही मैं इसकी सलाह देता हूँ। मैं मदिरा-पान के खिलाफ नहीं हूँ और एक-आध पैग में कोई बुराई भी नहीं है परन्तु यौन का मज़ा जो पूरे होशो-हवास में आता है वह नशे की हालत में कहाँ आ सकता है। यौन तो खुद ही सर्वोत्तम नशा है….. फिर शराब का सहारा किस लिए ? वैसे भी डॉक्टरों का मानना है कि शराब लिंग के लिए उत्तेजक नहीं बल्कि एक अवरोधक का काम करता है। शराब के बाद पुरुष सेक्स के बारे में बातें तो बहुत कर सकता है पर उसकी पौरुष शक्ति कमज़ोर हो जाती है और कई बार वह सम्भोग में विफल भी हो सकता है। हाँ, एक और बात…. अपने मोबाइल फोन बंद करना ना भूलें वरना वे ऐसे समय बजेंगे कि सारा मज़ा किरकिरा हो जायेगा।

    शुरुआत पुरुष के लिए ज़रूरी है कि वह किसी बात के लिए जल्दबाज़ी न दिखाए। भले ही लड़का-लड़की पहले से एक दूसरे को जानते हों या फिर पहली बार एकांत में मिल रहेहों….. शुरुआत में दोनों को एक अजीब सी झिझक होगी। लड़की को खास तौर से काफी संकोच और असमंजस हो सकता है …. थोड़ी-थोड़ी घबराहट भी हो सकती है। कुछ मर्द भी ऐसेमौक़ों पर घबराहट महसूस कर सकते हैं खास तौर से वे जिन्हें अपना लिंग छोटा लगता हो या जिन्हें शीघ्र-पतन का डर हो। मेरी राय में दोनों को ही अपनी शंकाओं पर काबू पाने की कोशिश करनी चाहिए और प्रकृति की इस नायाब अनुभूतिका आनन्द उठाने का प्रयास करना चाहिए। बेहतर होगा अगर शुरुआत बातचीत से की जाये। पुरुष को पता होना चाहिए कि सेक्स के प्रांगण में हर तरह की पहल उसे ही करनी होती है। लड़की को ऐसे मौक़े पर लज्जा और झिझक ही शोभा देती है। ठीक तरह से बातचीत करने के लिए भी पहले से तैयारी करना बेहतर होगा। पुरुष को चाहिए कि इस बारे में पहले सेसोच ले क्या क्या बात करनी है वरना उस वक्त दिमाग धोखा दे सकता है। अकसर लड़कियों को अपने घरवालों की और खुद की तारीफ सुनना अच्छा लगता है। अगर सुहाग-रात शादी के बाद मनाई जा रही है तो अकसर लड़की काफी थकी हुई होतीहै …. उसकी थकान दूर करने के लिए पुरुष उसके हाथ, कंधे, बाजू, सिर इत्यादि दबाने के बहाने उसको छू सकता है। इससे शुरू-शुरू की झिझक तोड़ने में सहायता मिलेगी और लड़की को साहस भी मिलेगा। इन दो बातों को ध्यान में रखते हुए कुछ इसतरह से बातचीत शुरू की जा सकती है :- मानो लड़की का नाम प्रिया है, “वाह प्रिया ! मैं बहुत खुशनसीब हूँ ……..” (प्रिया कुछ नहीं कहती) “जो तुम मुझे मिली हो ….” (प्रिया कुछ नहीं कहती) “तुम्हारे मम्मी-पापा कितने अच्छे हैं ….. दोनों अभी भी जवान लगते हैं … !” (प्रिया ज़रूर मुस्कुराएगी) कुछ देर उसके माँ-बाप, भाई-बहन की तारीफ करने के बाद ….. “प्रिया …. तुम्हारा नाम मुझे बहुत अच्छा लगता है ….. छोटा सा … मैं तुम्हें प्यार में या गुस्से में …. दोनों में आसानी से बुला सकता हूँ !!” (फिर नाटकीय ढंग से उसका नाम एक बार प्यार से और एक बार गुस्से से लेकर दिखाओ। वह ज़रूर हँस पड़ेगी) “तुम हँसती हुई ज्यादा अच्छी लगती हो …. तुम्हें पता भी है तुम्हारे गाल और होंठ कैसे खिल जाते हैं !” (इस समय उसकेगाल पर चुम्बन ले सकते हैं) “मुझे लगता है तुम बहुत थक गई हो …… लाओ, मैं तुम्हारी थकान दूर कर दूं।” (यह कहते हुए उसके कंधे, या हाथ या सिर को पकड़ कर सहलाना शुरू किया जा सकता है। अगर वह शरमाये या आनाकानी करे तो भी पुरुष को दृढ़ता से उसे पकड़ कर प्यारसे सहलाना या दबाना चाहिए)

    चीर-हरण सम्भोग से पहले लड़की को निर्वस्त्र करना एक ऐसा अवसर है जो दोनों को उत्तेजित करने में मदद कर सकता है। इस अवसर का सही उपयोग करना चाहिए। अगर पुरुष लड़की का शरीर दबा कर उसकी थकान मिटाने में जुटा है तो वह आसानी से धीरे धीरे उसके कपड़े इस तरह अलग कर सकता है मानो वे उसके रास्ते में आ रहेहों। लड़की का चीर-हरण धीरे धीरे करना चाहिए। अकसर लड़कियाँ ऊपरी कपड़े उतरवाने में ज्यादा संकोच नहीं करतीं पर पहली बार किसी के सामने ब्रा और पैन्टी उतरवाने में शर्म के कारण आपत्ति कर सकती है। अगर ऐसा होता है तोपुरुष को लड़की की इच्छा की कद्र करनी चाहिए और रुक जाना चाहिए। इस समय वह खुद अपने आप को निर्वस्त्र कर सकता है। कुछ लड़कियों को रोशनी में नंगा होने से संकोच होता है तो उजाला कम कर देना चाहिए … पर बिलकुल अँधेरा ठीक नहीं है। हालाँकि मेरा यह मानना है कि सच्चा पुरुष वही है जो स्त्री की इच्छाओं की कद्र करे और उसकी भौतिक कमजोरी का नाजायज़ फ़ायदा ना उठाये। पर यह भी सही है कि पुरुष को दृढ़ता से वे सब काम करने चाहिए जो कि उचित और ज़रूरी हों। अगर लड़की को ज्यादा ही संकोच या आपत्ति हो तो उसे अपना हक़ जता कर या ज़रूरत हो तो थोड़ा बल इस्तेमाल करके लड़की को सही मार्ग पर लाना चाहिए। इसका मतलब यह कदापि नहीं है कि लड़की का बलात्कार किया जाये

    viniraaj

    With audio vini bhabhi ND vini frend enjoy sex frant of husband

    harddick21blog

    Bold Indian Wife

    मेरा नाम प्रीति है और मेरी उम्र 20 साल की है। मैं पंजाब से हूँ। मेरा एक भाई है और दो कजिन है काजल और रोहित। काजल 22 साल की है और रोहित 19 साल का। मेरी कहानी मेरी चूत की चुदाई यात्रा है।

    जब मैं 18 साल थी तो मेरी बहन काजल को हमारे किरायेदार ने चोद दिया. इस बात पे बहुत बवाल हुआ जब ताई ने काजल और उस आदमी को नंगे चुदाई में लगे पकड़ लिया। तब उस आदमी को घर से निकाल दिया और काजल का एक बार कॉलेज जाना बंद हो गया।

    मैंने जब अपनी बहन काजल से चुदाई के बारे में पूछा तो उसने बताया कि इस में बहुत मज़ा आता है। वो काजल को पिछले 6 महीने से चोद रहा है। काजल ने जब विस्तार से लंड और चूत और उसके बीच हुए सेक्स के बारे में बताया तो मेरी चूत गीली हो गयी। उस दिन के बाद मैं काजल से हर रात उसकी चुदाई की कहानियां सुनती और बाथरूम में उंगली से अपनी चूत की आग को ठण्डा करती। दिन पर दिन मेरा सेक्स करने को दिल मचल रहा था पर दिक्कत यह थी कि ना मेरा कोई बॉयफ्रेंड था और काजल का काम बंद हो गया था।

    काजल और मैं दोनों लेस्बियन सेक्स करने लगी पर लंड के बिना चूत शांत नहीं हो पा रही थी। हम दोनों अब एक दूजी की राज़दार थी, हमें लंड की ज़रूरत थी।

    इस बीच काजल ने एक धांसू बात कही कि क्यों न रोहित भाई से आग बुझा ली जाए। एक बार मेरे पैरों तले ज़मीन खिसक गई कि कैसे काजल अपने आप को अपने सगे भाई से चुदवा सकती है औऱ मुझे अपने कज़िन से पर कोई चारा नहीं था।

    काजल ने कहा- पहले तू भाई रोहित को पटा ले… क्योंकि सगी बहन को वो ना सही, कजन बहन को वो आसानी से चोदेगा।

    काजल ने मेरे और रोहित के लिए एक दिन सेट किया जब काजल के मम्मी पापा कहीं बाहर गए थे रोहित और काजल अकेले थे। काजल मुझे बताया उसने रोहित को कई बार मुठ मारते देखा है क्यों ना इस बात पे उसे ब्लैकमेल किया जाए? आज घर पे कोई नहीं है और वो मुठ ज़रूर मारेगा।

    मेरा दिल ज़ोर ज़ोर धड़क रहा था जब मैं काजल के घर गयी। उसने बताया कि उसने रोहित के रूम की खिड़की की कुंडी खोल दी है और उसमें से हम नज़ारा देख सकते हैं। हम दोनों टीवी देखने लगी और इंतज़ार करने लगी।

    हमारी नज़र अपने भाई पर थी, उसने लैपटॉप लिया और अपना कमरा बंद कर लिया। काजल मुझसे बोली- जा मेरी जान, अपने लिए भी लंड का इंतज़ाम कर और मेरे लिए भी।

    थोड़ी देर बाद मैंने और काजल ने खिड़की से चुपके से पर्दा हटा कर देखा तो हमारी योजना कामयाब थी, रोहित ने अपनी लोअर नीचे की हुई थी और अपना लंड बाहर निकाल के रखा हुआ था, मेरी और काजल की आँखें मिली 6 इंच का सुन्दर लंड देख के।

    काजल ने मुझे एक्शन बोला और मैंने खिड़की खोली और अंदर आ गयी, मुझे अचानक देख कर रोहित भाई डर गया, उसने अपना लंड लोअर में डाल लिया पर लैपटॉप न बंद कर सका. और लैपटॉप पर मज़ेदार फ़िल्म चल रही थी, एक बड़े लंड वाला काला नीग्रो एक छोटी सी लड़की को धकापेल चोद रहा था।

    मैंने रोहित से कहा- यह क्या कर रहे थे भाई? उसने घबराते हुए कहा- कुछ नहीं, तुम यहाँ कैसे आयी? मेरा दिल बहुत जोर से धड़क रहा था, मैंने रोहित से कहा- तू यह सब क्या कर रहा था? वो बोला- तू जा यहां से!

    मैंने प्लान के मुताबिक कहा- ज़्यादा बन मत भाई… मैं ताई को और काजल को बता दूँगी कि तू क्या कर रहा था। वो थोड़ा डर गया और बोला- किसी से मत कहना, तू जो बोलेगी मैं करूँगा। मैंने डरते डरते कि, पता नहीं यह मानेगा या नहीं, बोल दिया- मुझे चुदने का मन हो रहा है तेरा लंड और ब्लू फिल्म देख के! एक बार तो वो बोला- नहीं, तू मेरी बहन है.

    फ़िर पता नहीं थोड़ी देर सोचने के बाद बोला- मुझे भी तेरी फ़ुद्दी लेनी है पर काजल घर पे है। मैंने कहा- तू उसकी परवाह न कर, वो टीवी देखते देखते सो गई गयी है।

    मेरे चचेरे भाई ने मुझे अपने गले से लगा लिया और कहा- यह बात हम दोनों के बीच रहनी चाहिए। sexgurumd@ जब रोहित ने मुझे गले से लगा कर मेरे शरीर पर हाथ फेरना शुरू किया तो मेरे शरीर में चीटियां सी रेंगने लगी क्योंकि यह किसी लड़के की पहली छुअन थी मेरे कच्चे नाजुक कुंवारे बदन पर। उसने मुझे पटक कर बेड पे लिटा दिया और मेरे कमीज के ऊपर से मेरे मुम्मे दबाने लगा। मैं सिसकारियां भरने लगी।

    पहले उसने मेरा कमीज़ उतार के साइड पे रख दिया और ब्रा को ऊपर उठा के मेरा एक चूचा अपने मुँह में डाल के चूसने लगा, भाई मेरे दूसरे चूचे को बारी बारी से दबा रहा था, यह अभी शुरुआत थी और मैं ज़न्नत में थी।

    कुछ देर बाद उसने मेरी सलवार का नाड़ा खोल दिया मेरी पेंटी की इलास्टिक में हाथ डालकर पेंटी और सलवार दोनों एक झटके में उतार दी। मैंने जोश मे आकर एकमात्र ब्रा जो मेरे शरीर पर बाक़ी रह गयी थी, वो भी उतार दी. रोहित ने अपना लोअर और टीशर्ट उतार कर साइड में रख दिया। अब हम दोनों भाई बहन नंगे थे।

    भाई ने अपनी चचेरी बहन को बांहों में भर लिया! आह क्या नज़ारा था… दो नंगे जवान जिस्म, भाई बहन के।

    मेरे बूब्स उसकी छाती से दब रहे थे वो मेरी पीठ पर, गांड पर, फ़ुद्दी पर हाथ फिरा रहा था। मैं पहले से ही तैयारी करके आई थी, मैंने अपनी चूत की झांटें क्रीम लगाकर साफ़ कर रखी थी और मेरी चूत चमक रही थी.

    कुछ देर बाद उसने मुझे लिटा कर मेरी टाँगें खोल दी और मेरी फ़ुद्दी पर अपने होंठ रख दिये। मेरे मुँह से जोर की सिसकारी निकली और मेरे पूरे बदन में एक करन्ट सा दौड़ गया।

    फ़िर क्या कहूँ… उसने पाँच मिनट तक मेरी जम के फ़ुद्दी चूसीऔर मेरा पानी निकाल दिया।

    थोड़ी देर बाद जब मैं होश में आई तो उसने कहा- अब मेरी बारी मजा लेने की! और अपना 6 इंच का लौड़ा मेरे मुंह के रास्ते मेरे हलक में उतार दिया।

    मैंने भी लॉलीपॉप की तरह चूस चूस कर भाई का लौड़ा लाल कर दिया। उसके बाद उसने लौड़े ने पानी छोड़ दिया जिसकी पहली पिचकारी मेरे हलक के अंदर छूटी, उसने मेरा सिर दबा लिया और जब तक उसके लौड़े ने वीर्य की अंतिम बूंद नहीं निकाली, छोड़ा नहीं। मैंने भी सारा माल गटक के पी लिया। मेरा भाई रोहित बोला- बहना… तू बहुत बड़ी रंडी बनेगी, तेरी चूत मे में गर्मी बहुत है।

    थोड़ी देर में मैंने उसका लौड़ा फ़िर से खड़ा कर दिया। अब पहली बार मेरी चूत में लौड़ा जाना था और हैरत की बात यह थी कि वो लौड़ा मेरे चचेरे भाई का था। मैंने उसका लौड़ा चूस के खड़ा कर दिया।

    अब रोहित ने मुझे बेड पे लिटा के मेरी कमर के नीचे तकिया लगा दिया जिससे मेरी चूत खुल के उसके लौड़े के सामने थी। वो मेरी टांगों के बीच आ गया और मेरी मेरी चूत पर लौड़े का टोपा घिसने लगा, मेरी चूत की खुजली बढ़ गयी। मैंने सिसकारियां लेते हुए कहा- भाई अब डाल दे मेरी फ़ुद्दी में अपना लौड़ा और बना ले अपनी बहन को अपनी रंडी!

    उसने ज़ोर का झटका दिया और अपना आधा लौड़ा मेरी चूत में उतार दिया, ऐसा लगा किसी ने जलती रॉड मेरी चूत में डाल दी हो। मेरी आँखों में आंसू आ गए पर वो धीरे धीरे लंड को अंदर सरकाता गया। अब भाई का लंड मेरे गर्भाशय से टकरा रहा था, जो बड़े लंड खाने वाली है वो जानती होंगी क्या मज़ा है जब लंड का सिरा अंत में जाकर टकराता है।

    मेरी आँखों के सामने रंगीन सितारे झिलमिलाने लगे, मैंने रोहित को कस के भींच लिया और अपनी टाँगें उसकी कमर पे लपेट दी। अब धीरे धीरे मेरा दर्द कम हो रहा था और मज़ा आ रहा था। पूरे 15 मिनट तक मेरी चूत मेरे भाई का लौड़ा लेती रही। मेरी गीली चूत में उसका लौड़ा फिसलता अंदर और बाहर हो रहा था, मेरे चूतड़ और गांड के छेद पर उसके टट्टे चोट मार रहे थे, इससे कमरे में टप टप की आवाज़ आ रही थी.

    मैं सिसकारियां भर रही थी, रोहित पेले ही जा रहा था।

    अचानक मेरा शरीर अकड़ने लगा और ऐसा लगा कि मेरा सारा खून मेरी फ़ुद्दी की ओर आ गया और मेरी फ़ुद्दी ने पानी छोड़ दिया। मैंने रोहित को भींच लिया पर वो धकधक पेले जा रहा था, थोड़ी देर में वो बोला- आह… जान… आह… और उसने अपना गरमागर्म वीर्य मेरे पेट और बूब्स पर छोड़ दिया।

    क्या बला का सीन था… मेरा पेट और नाभि उसके वीर्य से सराबोर हो गए। थोड़ा वीर्य मेरे गले और बूब्स पे भी आ के गिरा। भाई ने अपनी उंगली से वो माल इकट्ठा करके मेरे मुँह में डाल दिया मैंने भी पोर्न स्टार की तरह सारा रस चूस लिया, बाकी बचा अपने बूब्स और पेट पर रगड़ लिया।

    रोहित मेरे बगल में लेट गया मेरे होंठ चूम के बोला- दीदी, तेरी फ़ुद्दी में तो जन्नत है। मैंने मुस्करा कर कहा- भाई तेरा लौड़ा भी कम नहीं है।

    इसके बाद मैं कमरे के बाहर आई और रोहित से बोली- मैं देख कर आती हूँ कि काजल कहीं उठ तो नहीं गयी? मैंने कपड़े पहने और बाहर आ गयी, जब मैं काजल के कमरे में गयी तो वो बोली- वाह मेरी रानी, फ़ुद्दी में लौड़ा ले ही लिया, कैसा लगा भाई का लौड़ा? मैंने कहा- बस जन्नत है।

    वो बोली- ऐसे ही मैं राजू किरायेदार का लौड़ा खाती थी, अब यह सोच तू तो फ़ुद्दी की आग बुझा के आ गयी; अब मेरा भी कुछ कर। मैंने कहा- करते है कुछ! तभी मेरे दिमाग एक आईडिया आया, मैंने कहा- कोई बात नहीं, हमारे पास अभी 3 दिन हैं, इन 3 दिन में तो मैं तुझे भाई के लंड से चुदवा ही दूँगी। वैसे तू है बड़ी रंडी… अपने भाई का लौड़ा लेना चाहती है। वो बोली- लौड़े का काम चूत को फाड़ना है, चाहे वो किसी की भी हो, और चूत का काम लौड़ा खाना है चाहे वो भाई का हो। मैंने कहा- चल तू सो अभी, मैं करती हूँ तेरा काम।

    मैं कमरे में गयी तो रोहित ने मुझे फिर पकड़ लिया, मेरा भी मूड बन गया पर काजल बड़ी बेसब्री से चुदने को तैयार थी। मैंने भाई से कहा- काजल जाग रही है. वो थोड़ा निराश हो गया.

    दिल मेरा भी लौड़ा लेने को कर रहा था क्योंकि भाई के हाथ मेरे मुम्मे और फ़ुद्दी पे रेंग रहे थे। उसने मेरी सलवार का नाड़ा खोल के सलवार घुटनों तक कर दी और मुझे बेड के किनारे घोड़ी बना लिया, मैंने भी झुक के अपनी फ़ुद्दी खोल ली पीछे की ओर।

    उसने लंड पे थूक लगा कर मेरी फ़ुद्दी पे रखा और एक झटके में अंदर उतार दिया। आह क्या आनन्द था इस तरह कपड़े पहने हुए सिर्फ फ़ुद्दी और लंड का मिलन करवाने में।

    अब शुरू हुए लगातार धक्के… जो 10 मिनट तक चले, बीच में उसने मुझे चित लिटा कर लगातार चोदा जिससे मेरा पानी निकल गया। उसका भी पानी मेरी फ़ुद्दी में पिचकारियों के रूप में जज़्ब हो गया। मैं भाई के लंड का गरम गरम पानी अपनी फ़ुद्दी में पाकर निहाल हो गई और चढ़ी हुई साँस को नॉर्मल करने लगी।

    मैंने सलवार को ऊपर किया और नाड़ा बांध लिया, उसने भी अपनी लोअर टीशर्ट पहन ली। उसने कहा- दीदी, किसी से बोलना नहीं कि हमने यह सब किया है। मैंने हां में सर हिला दिया।

    kingsizecobra

    Stunning big boobs

    kl-milf

    Oh daddy you made me wanna squirt so badddddd

    harddick21blog

    White bitch

    दोस्तो, सब लंड और चुतों को मेरा प्रणाम. मेरा नाम शुभ प्रताप सिंह है, मै रोहतक (हरियाणा) से हूँ. मेरी उम्र 25 साल है, मैं दिखने में गोरा और शरीर से जिम जाने के कारण हट्टा कट्टा हूँ. मैं अभी बी.कॉम के सेकंड ईयर की पढ़ाई कर रहा हूँ. मेरे लंड का साइज़ 7 इंच है.. और मोटा होने के साथ ये बहुत मजबूत भी है, क्योंकि मैं रोज तेल से अपने लंड की मालिश करता हूँ.

    यह एक सच्ची घटना है, मेरा एक दोस्त है उसका नाम नवल है, वह मेरा सबसे पक्का दोस्त है. नवल मेरे साथ पढ़ता है. हम साथ मैं कॉलेज जाते और साथ में लंच करते थे. नवल के घर के लोगों से मेरा बहुत अच्छा व्यवहार है. उसके घर के सब लोग मुझे पसन्द करते थे. उसके घर मैं उसके पापा, मम्मी और उसकी बड़ी बहन नेहा रहते हैं.

    उसके पापा, मम्मी को मैं अंकल आंटी कहता था और उसकी बहन को दीदी कहता था क्योंकि नेहा मुझसे उम्र में बड़ी थी. उसकी बहन नेहा बड़ी गजब की माल थी. उसकी उम्र 24 साल थी. एकदम गोरा बदन, बड़े-बड़े मम्मे, ऊंची उठी हुई गांड बड़ी कातिल जवानी थी. उसका फिगर साइज़ 32-28-36 का रहा होगा. कोई भी उसे एक बार देख ले तो उसका लंड खड़ा न हो जाए.. तो मेरा नाम बदल देना.

    मेरा मन हमेशा उसे चोदने का करता था. मैं जब भी नवल के घर जाता तो नेहा दीदी को देखता रहता था. कभी-कभी वह भी मुझे खुद को देखते हुए देख लेती थी. वह भी जान गई थी कि मैं उसे देखता हूँ, पर उसने कभी कुछ नहीं कहा.

    मैं नवल के घर में एकदम पारिवारिक सदस्य की तरह आता जाता था तो मेरी नेहा दीदी से बातचीत होती ही रहती लेकिन इन दिनों मेरी उसके साथ बातें कुछ ज्यादा ही बढ़ने लगीं और मैं उसके साथ कुछ खुलने लगा.

    अब मैं जब भी नवल के घर जाता, तो उसके साथ खुल कर बात करता, उससे हँसी मजाक करता और उसे छेड़ता रहता.

    एक दिन अचानक नवल के घर गाँव से उसके चाचा का फ़ोन आया. उन्होंने बताया कि उसके दादाजी को दिल का दौरा पड़ा है. बहुत सीरियस हालत है. जल्दी सब लोग गाँव आ जाओ.

    दादाजी शायद अपने अंतिम समय में थे. सब लोग गाँव जाने के लिए तैयार हो गए. पर नेहा दीदी नहीं गई क्योंकि उस समय उसके पेपर चल रहे थे. नेहा दीदी को घर पर अकेला भी नहीं छोड़ सकते थे. तो नवल के पापा ने मुझे फोन किया और मुझे सारी बात बताई. अंकल ने मुझे नेहा दीदी के साथ उनके घर पर रुकने को बोला.. तो मैंने हां कर दी.

    फिर सब लोग गाँव चल गए. कॉलेज से आकर दिन में मैं मेरे 2-3 जोड़ी कपड़े लेकर नवल के घर चला गया. घर पहुंच कर मैंने घंटी बजाई तो नेहा दीदी ने दरवाजा खोला. मैंने नेहा दीदी को देखा, सच में आज वो किसी हिरोइन से कम नहीं लग रही थी. उस समय उन्होंने रेड कलर का टॉप वह ब्लैक कलर की स्कर्ट पहन रखी थी. मन तो कर रहा था कि इसको यहीं पटक के चोद दूँ, पर ऐसा नहीं कर सकता था.

    दीदी ने मुझे अन्दर आने को बोला, मैं अन्दर आ गया. वह मुझे सोफे पर बिठा कर पानी लेने चली गई. मैं पीछे से नेहा दीदी की उछलती गांड को देख रहा था. दो मिनट बाद वह पानी लेके आई और साथ में कुछ नाश्ता भी लाई.

    पानी पीने के बाद हम दोनों नाश्ता करने लगे और फिर इधर उधर की बातचीत करते हुए हँसी मजाक करने लगे. यूं ही हँसी मजाक करते करते कब शाम हो गई, पता ही नहीं चला.

    फिर शाम होते ही दीदी ने मुझे कहा कि फ्रेश हो आओ, मैं भी फ्रेश होकर आती हूँ. फिर खाने की भी तैयारी करनी है. मैंने कहा- ठीक है दीदी.

    मैं तैयार होकर आ गया, नेहा दीदी खाना बनाने लगी थीं. मैं भी उनकी हेल्प कर रहा था. फिर खाना बनने के बाद हम दोनों ने साथ में खाना खाया. खाना के बाद नेहा दीदी ने बोला- चलो अब सो जाते हैं.

    मैं अलग रूम में सोने जाने लगा तो नेहा दीदी ने बोला- शुभ तुम भी यहीं सो जाओ. मैंने बोला- ठीक है. उसके साथ सोने की जानकार मेरी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था. अब मैंने सोच लिया था कि आज तो कुछ भी हो जाए, नेहा दीदी को चोद कर ही रहूँगा.

    हम दोनों एक ही बेड पर लेट गए और लेटे लेटे बात करने लगे.

    मैंने नेहा दीदी को बोल दिया कि दीदी आज आप बहुत सेक्सी लग रही हो. यह सुनकर नेहा दीदी ने बहुत ही कामुक स्माइल दी और कहा- तुम भी स्मार्ट लग रहे हो. मैं कुछ खुश हो गया कि दीदी को भी कुछ कुछ हो रहा है.

    फिर नेहा ने मुझसे बोला- क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है? मैंने बोला- दीदी नहीं है. नेहा दीदी ने मेरी बांह पर हाथ फेरते हुए कहा- क्यों नहीं है? तुम तो इतने हॉट लड़के हो.. इतनी मस्त बॉडी है.

    मैंने उनकी इस हाथ सहलाने वाली हरकत से गरम होते हुए बेझिझक कह दिया- आपकी जैसी सेक्सी लड़की मिली ही नहीं. दीदी आँख मारते हुए बोली- चल झूठे.. तू बहुत झूठ बोलता है. मैंने उनकी बॉडी को टच करते हुए कहा- नही यार दीदी.. सच में मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है, जब आपकी जैसी इतनी सेक्सी लड़की मिलेगी तो जरूर बना लूँगा.

    कुछ तो शुरू हो ही गया था, शायद दीदी को मेरा हाथ फेरना भी गरम सा लगा और नेहा दीदी ने बहुत ही कामुक स्माइल देते हुए कहा कि तो अब बना लो.. अब तो सेक्सी लड़की तेरे सामने ही है.. तुझे किसने रोका है.

    अब मेरी समझ में सब आ गया. आज नेहा दीदी भी मुझसे चुदवाना चाहती है. मैंने नेहा दीदी को जल्दी से ‘आई लव यू..’ बोल दिया. नेहा दीदी ने भी मुझे ‘आई लव यू टू शुभ..’ बोल दिया. वो कहने लगी कि मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ. पर इतने दिनों से बोलने का मौका ही नहीं मिला.

    बस फिर क्या था. मैंने तुरंत अपने होंठ नेहा दीदी के होंठों पर रख दिए और नेहा दीदी को किस करने लग गया. वह भी बड़ी गर्मजोशी से मेरा साथ दे रही थी. उसने मेरे मुँह में अपनी जीभ ठेल दी. मैं उसकी जीभ पीने लगा और मैंने उसके गले को चाटना से काटना शुरू कर दिया.

    मैं जल्दी से उसके मम्मों को टॉप के ऊपर से ही दबाने लगा और थोड़ी देर बाद मैंने उसका टॉप भी उतार दिया. दीदी ने ब्लैक कलर की ब्रा पहन रखी थी. उसकी गोरी चमड़ी पर गाली ब्रा बड़ी सेक्सी लग रही थी.

    मैंने उसकी ब्रा को जल्दी से उतारा और उसके दोनों मम्मों को ब्रा से आजाद कर दिया. मैंने देखा कि इतने गोल गोल, गोरे गोरे मम्मे हवा में उछलते हुए मुझसे शायद कह रहे थे कि थैंक्यू शुभ.. अब जल्दी से हमें चूस भी लो.

    मैंने झट से मुँह में दीदी के एक दूध को भर लिया और पीने लगा. कभी एक दूध चूसता तो कभी दूसरा दूध पीता. दीदी भी बड़ी मस्ती से अपने मम्मों को मुझसे चुसवाने का मजा लिए जा रही थी. दस मिनट तक दीदी के मम्मों को पीने के बाद मैंने नीचे से उनकी स्कर्ट को ऊपर कर दिया. मैं दीदी की मक्खन मलाई सी चिकनी जांघों को सहलाने लगा और चाटने लगा.

    उसके मुँह से मादक आवाजें निकल रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आहा..

    कुछ ही मिनट बाद मैंने दीदी की स्कर्ट को उतार फेंका और वह अब मेरे सामने सिर्फ पेंटी में ही रह गयी थी. नेहा दीदी ने सफ़ेद कलर की पेंटी पहन रखी थी. उस समय वह गजब की माल लग रही थी. मैं उसकी चुत को पेंटी के ऊपर से ही चाटने लगा. नेहा दीदी जोर जोर से मदभरी आवाजें निकालने लगीं.

    उनकी पेंटी चूतरस और मेरे चाटने से एकदम भीग गई थी. इसलिए मैंने पेंटी को भी उनके शरीर से अलग कर दिया. दीदी मेरे सामने एकदम मादरजात नंगी पड़ी थी. उनकी चुत इतनी प्यारी लग रही थी. एकदम गुलाबी कलर की.. अनछुई चुत, जिस पर झांट का एक बाल भी नहीं था. शायद आज ही चूत को चमेली सा चिकना किया था.

    मैंने जल्दी से दीदी की चुत को मुँह में भरा और बेताबी से चुत चाटने लगा. दीदी ने भी अपनी चुत पसार दी थी, तो मैं अब बहुत जोर जोर से दीदी की चुत को चाट रहा था. नेहा दीदी भी बेड पर उछल उछल कर चुत चुसवा रही थी. जल्दी से उसकी चूत का पानी निकल गया.

    नेहा दीदी झड़ने के बाद कुछ पल के लिए एकदम निढाल हो गई. फिर थोड़ी देर बाद वह मेरे सारे कपड़े खोल कर मेरे लंड को मुँह में लेने लगी और लॉलीपॉप की तरह लंड चूसने लगी. मुझे बहुत मजा आ रहा था.

    करीब 15 मिनट तक दीदी ने मेरे लंड को चूसने के बाद मेरा पानी भी निकलवा दिया. दीदी मेरे लंड के रस को पूरा का पूरा गटक गई.

    लंड झड़ जाने के बाद मैं सीधा होकर उसके बगल में लेट गया और उसे किस करने लगा.. उसके मम्मों को दबाने लगा. थोड़ी ही देर में, मैं फिर से गरम हो गया. अब मैं उसकी दोनों टांगों के बीच में आ गया और अपना लंड को उसकी चुत पे रगड़ने लगा.

    वह भी चुदास से भड़क उठी थी तो सिसियाते हुए बोलने लगी- आह.. अब मत तड़पाओ.. जल्दी से अन्दर डाल दो. मैं लंड को दीदी की चुत में अन्दर डालने लगा. पर मोटे लंड होने के कारण चूत के अन्दर घुस नहीं पा रहा था.

    दीदी ने मुझे अपने ऊपर से हटाया और बोली- रुको.. कुछ चिकना लगा देती हूँ. वो उठ कर क्रीम लेकर आई और मुझसे बोली- इसे लगाओ.

    मैंने थोड़ी क्रीम उसकी चुत पर और थोड़ी अपने मूसल लंड पर लगाई. अब मैंने लंड को उनकी चुत पर अच्छे से सैट किया और जोर से झटका दे मारा. इस बमपिलाट झटके से करीब मेरा आधा लंड चुत में घुस गया.

    लंड चूत में क्या घुसा, दीदी के मुँह से बहुत जोर की चीख निकल गयी. दीदी की आंखों से आंसू निकल गए. दीदी ने दर्द से तड़फते हुए मुझसे तुरंत लंड को बाहर निकालने को बोला- आह.. मर गई.. शुभ बहुत दर्द हो रहा है.. जल्दी इसे बाहर निकालो.

    पर मैंने उसकी बात नहीं मानी. लंड को उसी हालत में छोड़ कर, मैं उसे किस करने लगा. थोड़ी देर बाद जब दीदी नार्मल हुई. तो उसकी चीखें कम हो गईं. मैं समझ गया कि अब चूत और लंड में मुहब्बत हो गई है. ये जानकार मैंने एक और झटका जोर से लगा दिया. दीदी की फिर से जोर से चीख निकल गयी और वो फिर से दर्द से तड़पते हुए रोने लगी- आह.. साले मार दिया.. तूने मेरी चुत फाड़ दी.. भोसड़ी के जल्दी से लंड को बाहर निकाल.

    दीदी मुझे गाली बकने लगी थी. उसकी चुत से खून टपकने लगा था. बेड पर खून ही खून हो गया.

    पर इस बार मैंने झटके देना बंद नहीं किया और लगातार लंड से झटके देता रहा. थोड़ी देर बाद दीदी को मजा आने लगा और दीदी भी चूतड़ उठा उठा कर लंड लेने लग गई.

    मैंने लंड पलते हुए ही कहा- साली कुतिया, अब लंड का मजा लेने लगी उस वक्त तो मुझे भोसड़ी के बोल रही थी. दीदी मुझे मुक्का मारते हुए बोली- साले, मेरी चूत में बहुत दर्द हो रहा था. मैंने उसकी चूची को चूसते हुए कहा- साली रंडी, अब तेरी चूत का भोसड़ा न बनाया तो कहना.. ले मादरचोदी लंड का मजा ले. अब दीदी भी मुझे गाली बकते हुए चुदाई का मजा लेने लगी- भैन के लंड साले चोदने में दिमाग लगा.. आह बड़ा मजा आ रहा है.. और जोर से चोद कुत्ते.

    बस फिर क्या था.. धकापेल चुदाई चलने लगी और अंत में दीदी के दो बार झड़ने के बाद मैं भी उसकी चुत में ही झड़ गया.

    फिर दीदी बेड से उठ कर बुर पर लगे खून को साफ करने बाथरूम जाने लगी.. तो उससे चला नहीं जा रहा था. मैं उसको गोद में उठा कर बाथरूम ले गया. फिर मैंने बाथरूम में उसकी चुत को साफ किया.. और उसने मेरे लंड को साफ किया.

    उस रात मैंने दीदी को हर पोजीशन में तीन बार चोदा. दीदी 4 बार और मैं 3 बार झड़ चुका था. हम दोनों बहुत थक भी गए थे. अब दीदी की चुत फट कर सूज सी गई थी. हम दोनों ऐसे ही नंगे बेड पर सो गए.

    दीदी के घर वाले चार दिन बाद कोटा आए. तब तक हमने घर के हर कोने में चुदाई की. बाथरूम में, रसोई में, बेड पर.. खाते पीते.. हर समय खूब चुदाई की.

    आज भी हमें जैसे ही मौका मिलता है, तो हम चुदाई का मजा ले लेते हैं.

    harddick21blog

    Threesome fun hubby and his friend

    If you happen to feel discomfort or pain during sex, don’t end the lovemaking there. See how you can move into it so that it helps you open to that discomfort or pain. You may need phases of moving very slowly or even not moving at all. Ask for what you feel you may need and don’t hesitate to improvise.

    You will be surprised to find that when you don’t push away sensations or emotions, they actually tend to dissolve naturally.

    A deeply tuned in lover won’t be focused on getting to a happy end. A deeply tuned in lover is someone who is ready to go with you to places they have never been to, and hold you through anything along this journey.

    Have you ever experienced love like that?

    gymtrainer99

    भंडारा चूत का। सबको देगी भाभी आज।

    harddick21blog

    Desi in Forest

    The energy is not released all at once, it is titrated, that is it is allowed to be released over the period of the session and can be seen in distinctive waves of excitation and release. Keeping the person present to the sensations in the body and tracking their movement and change allows this release to become a conscious, slow, non-traumatic event and stops the person from checking out or dissociating. Frequently simply asking the client to bring their awareness to an area of tension allows release to occur, if for example I ask someone to bring their awareness to their legs, then the neurogenic tremoring becomes more pronounced almost immediately. Frequently, certainly in initial sessions, there is vocal and emotional release, which I both encourage and allow to happen and frequently Specific memories can be evoked, placed into sequence and into context of the mind/body continuum and no longer dominate or produce an unconscious response.

    illustrated-interracial4

    Husband lets his wife fuck his best friend.

    FULL VIDEO HERE

    harddick21blog

    Best friend’s wife

    I celebrate 🎉 everything in my life - not just birthdays, Christmas‘, New Year’ and the good moments, but every freakin’ little thing. ✨ The tears as much as the smiles. (.. even tho it’s not always easy to see the beauty in the pain, but it is there) ✨ Whether you are celebrating Christmas or not, today is a good day to celebrate your life and all your achievements, challenges and emotions. ✨ I am thankful to be alive and to feel life so deeply that it makes me cry sometimes - of pain and joy. ✨ I am sending you sooo much love, a warm embrace and 1000 kisses.

    harddick21blog

    suck-sex-ful enjoyment

    Swapping has crossed all boundaries and barriers of society. These college going students are trying to enjoy and experience this and see how they are performing. They both exchanged their respective partners with each other and initiated things with them. Other couple were hesitating after swap but once they saw other two performing they also started enjoying the environment. 

    Friends wife, under shower

    The way porn is growing people are growing either. Pornhub and many other sites like this are totally dependent on such people. They are doing their promotion free of cost by providing them such platform. India is also not far behind. Days are not that far when porn will come from every second house. Things are changing rapidly, earlier it was like a dream and now everyone is making a porn and uploading on social media. Though they are not showing their faces but that does not matter. Soon, with face videos will come in market and on social media.

    priyavinodsaraf

    Priya get fuck by tumblr friend Indianmilflover

    harddick21blog

    Priya...aah aaah aah 

    From tumblr also one can get pussy. All he has to do is carry some cash with him. This guy, seems to be very hungry for pussy that is why he is nailing her hard. Priya is one among dirtiest slut who loves to get banged by hard and young thick dick. Such slut needs dick every time in her hot, horny and wet pussy. Her hubby, Pravin get such dicks for her. 

    cuckold321

    Lets see how she is getting on with her new friend.

    harddick21blog

    New friend and his wife 

    Lucky friend of such hot lady. Everyone would love to be friend with her. Lust can be seen in her eyes. Her husband checking her out and she is not stopping her friend. Her cuckold husband may be rubbing his dick while seeing this big black buddy’s performance. Black cock is tearing her pussy, and she is enjoying every bit of his jolts and shots.

    indiansunleashed

    Cuckolding doesn’t mean the wife doesn’t love the husband. It means she loves him much more than a normal wife loves a normal husband. Watch this clip where the husband enjoys watching another man fuck his wife. See their chemistry. This is a dream fuck….what I long for…

    harddick21blog

    So? There's two of us and one of you, and whenever we feel like it, we can be three. That's love too, you know.

    I do know, however, that they took more than one man to their beds.” she gasped and he nodded, thoroughly satisfied by her friend’s reaction. “More than one at a time?” she asked. She whispered the question and then blushed with embarrassment. he nibbled on her lip while she considered if that was possible. “I don’t think so,” she finally announced. Her back was to the door, and her full attention was centered on her friend. Neither noticed husband now stood in the open doorway.”

    vogliovederementrescopimiamoglie

    husband after blindfolding his wife fucked by strangers in a parck sex!!

    Part 4)

    harddick21blog

    Spice it up without going completely "Fifty Shades."

     Blindfolded sex decisions should be made spontaneously or you risk losing the surprising effects. To maintain spontaneity, you can use everyday items like scarves and ties to cover your eyes.

    You can blindfold your partner or be blindfolded by your partner, and try to surprise each other's taste buds with some delicious food items like honey, chocolate, or strawberries. But avoid forcing them to try some obnoxious or irritating food such as chili.

    indiansunleashed

    If you don’t mind being the one recording, I wouldn’t mind being the one riding your wife…

    harddick21blog

    you record i ride your wife

    This video can give day dream. Wife may be or may not be expecting such attack from behind that too in front of her husband..really, her moans shows that she was enjoying such jolts from that stranger. Kind of her fantasy fulfilling by her husband.